मिदास का स्पर्श (THE MIDAS TOUCH) | Hindi Inspirational Story

मिदास का स्पर्श (THE MIDAS TOUCH) | Hindi Inspirational Story
मिदास का स्पर्श (THE MIDAS TOUCH) | Hindi Inspirational Story
मिदास का स्पर्श (THE MIDAS TOUCH) | Hindi Inspirational Story
        💕Hello Friends,आपका स्वागत है learningforlife.cc में। एक लालची राजा मिदास था। उसके पास सोने की कमी नहीं थी, लेकिन सोना जितना बढ़ता, वह और अधिक सोना चाहता। उसने सोने को ख़ज़ाने में जमा कर लिया था, और हर रोज़ उसे गिना करता था। एक दिन जब वह सोना गिन रहा था, तो एक अजनबी कहीं से आया और बोला, “तुम मुझसे ऐसा कोई भी वरदान माँग सकते हो, जो तुम्हें दुनिया में सबसे ज़्यादा ख़ुशी दे।” राजा ख़ुश हुआ, और उसने कहा, “मैं चाहता हूँ कि जिस चीज़ को छुऊँ, वह सोना बन जाए।” अजनबी ने राजा से पूछा, “क्या तुम सचमुच यही चाहते हो?” राजा ने कहा, “हाँ”, तो अजनबी बोला, “कल सूरज की पहली किरण के साथ ही तुम्हें किसी चीज़ को छूकर सोना बना देने की ताक़त (Golden Touch) मिल जाएगी।”

राजा ने सोचा कि वह सपना देख रहा होगा, यह सच नहीं हो सकता। लेकिन अगले दिन जब राजा नींद से उठा, तो उसने अपना पलंग छुआ और वह सोना बन गया। वह वरदान सच था। राजा ने जिस चीज़ को भी छुआ, वह सोना बन गई। उसने खिड़की के बाहर देखा, और अपनी नन्हीं बच्ची को खेलते पाया। उसने अपनी बिटिया को यह अजूबा दिखाना चाह, और सोचा कि वह ख़ुश होगी। लेकिन बग़ीचे में जाने से पहले उसने एक किताब पढ़ने की सोची। उसने जैसे ही उसे छुआ, वह सोने की बन गई। वह किताब को पढ़ न सका। फिर वह नाश्ता करने बैठा, जैसे ही उसने फलों और पानी के गिलास को छुआ, वे भी सोने के बन गए। उसकी भूख बढ़ने लगी, और वह ख़ुद से बोला, “मैं सोने को खा और पी नहीं सकता।” ठीक उसी समय उसकी बेटी दौड़ती हुई वहाँ आई, और उसने उसे बाँहों में भर लिया। वह सोने की मूर्ति बन गई। अब राजा के चेहरे से ख़ुशी ग़ायब हो गई। राजा सिर पकड़कर रोने लगा। वह वरदान देने वाली अजनबी फिर आया, और उसने राजा से पूछा कि क्या वह हर चीज़ को सोना बना देने की अपनी ताक़त से ख़ुश है? राजा ने बताया कि वह दुनिया का सबसे दुखी इंसान है। राजा ने उसे सारी बात बताई।

        अजनबी ने पूछा, “अब तुम क्या पसंद करोगे, अपना भोजन और प्यारी बिटिया, या सोने के ढेर और बिटिया की सोने की मूर्ति। ” राजा ने गिड़िगडा़ कर माफ़ी माँगी, और कहा, “मैं अपना सारा सोना छोड़ दूँगा, मेहरबानी करके मेरी बेटी मुझे लौटा दो, क्योंकि उसके बिना मेरी हर चीज़ मूल्यहीन हो गई है। अजनबी ने राजा से कहा, “तुम पहले से बुद्धिमान हो गए हो।” और उसने अपने वरदान को वापिस ले लिया। राजा को अपनी बेटी फिर से मिल गई, और उसे एक ऐसी सीख मिली जिसे वह ज़िंदगी-भर नहीं भुला सका।
☝इस कहानी यह शिक्षा मिलती है?
  1. घटिया या विकृत जीवन मूल्यों से दुख ही मिलता है।
  2. कई बार इच्छा का पूरा होना, न पूरा होने से बड़ा दुख बन जाता है।
  3. फुटबॉल के खेल में तो खिलाड़ी बदले जा सकते हैं, पर ज़िंदगी के खेल में न तो ख़िलाड़ी बदले जा सकते हैं, और न ही खेल दुबारा खेला जा सकता है। शायद हमें अपने दुखों से मुक्ति पाने का मौका दुबारा न मिल सके।

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *